कविता: बेटी, प्यार और विश्वास

बेटी के लिए लिखी गई
मेरी हर कविता में तीन शब्द
आते हैं बार-बार
बेटी, प्यार और विश्वास
क्योंकि मुझे लगता है
एक बेटी दुनिया की सारी दौलत
ठुकराकर
चाहती है केवल प्यार और विश्वास।
- कुमुद सिंह


महिलाओं के हक़ में उठते हाथ "बिटिया" भी साथ